Header Ads Widget

ताज़ा

6/recent/ticker-posts

दिल्ली हाईकोर्ट में IPL रोकने की याचिका : कोरोना में टूर्नामेंट के बाकी मैचों को रद्द करने की मांग, याचिकाकर्ता ने कहा - आमजन का स्वास्थ्य क्रिकेट से ज्यादा जरूरी

दिल्ली हाईकोर्ट में IPL रोकने की याचिका
ANI

इंडियन प्रीमियर लीग, आईपीएल के शेष मैचेस पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं, इसी कड़ी में सोमवार को दिल्ली उच्च न्यायालय में याचिका दायर की गई। इसमें उच्च न्यायालय से आईपीएल के शेष मैचों को रद्द करने के आदेश जारी करने का अनुरोध किया गया है। याचिका में यह भी मांग की गई है कि केंद्र और दिल्ली सरकार, बोर्ड और डीडीसीए को केंद्र सरकार, दिल्ली सरकार, बोर्ड और डीडीसीए को नोटिस जारी किया जाना चाहिए ताकि सार्वजनिक स्वास्थ्य से अधिक क्रिकेट और आईपीएल को प्राथमिकता दी जा सके।


वकील ने याचिका दायर की

यह याचिका दिल्ली के एक वकील और सामाजिक कार्यकर्ता करण सिंह ठकराल ने दायर की है। ठकराल वर्तमान में खुद संक्रमित है और दिल्ली में चिकित्सा सुविधाओं की खराब स्थिति को देखकर व्यथित है। उन्होंने एक अन्य वकील के माध्यम से अपनी याचिका दायर की है। इसमें उच्च न्यायालय से अपील की कि वह इस मामले की जांच का आदेश दे कि कैसे आईपीएल को सार्वजनिक स्वास्थ्य से ज्यादा वैटेज दिया गया। मामले की गहराई से जांच होनी चाहिए। याचिका में कहा गया कि शेष मैचों को तत्काल प्रभाव से रद्द किया जाना चाहिए।


केंद्र सरकार भी घेरे में है

याचिका में उच्च न्यायालय से अपील की गई है कि वह दिल्ली में कोविड -19 से उत्पन्न स्थिति के बारे में पहले केंद्र सरकार से जवाब मांगे कि ये हालात क्यों बने। इसके बाद बीसीसीआई और फिर डीडीसीए से मांग की गई है। याचिका में दिल्ली सरकार और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को नोटिस भेजने की भी मांग की गई है।


याचिकाकर्ता ने कहा है कि उच्च न्यायालय से अनुरोध है कि वह किसी भी आईपीएल मैच को दिल्ली में होने से रोके, क्योंकि लोगों के स्वास्थ्य की सुरक्षा समय की सबसे बड़ी जरूरत और मांग है। अस्पतालों में लोगों को बेड और अन्य जरूरी सुविधाएं नहीं मिल रही हैं। सोमवार को यह मामला एकल पीठ में सुनवाई के लिए आया। इस पीठ ने याचिका की सुनवाई की जिम्मेदारी सेकंड डिवीजन बेंच को सौंप दी। अब इस पर बुधवार, 5 मई को सुनवाई होगी।


Indian Premier League 2021 | Chennai Super Kings | Cricket | IPL 2021 | coronavirus | delhi high court |  








Like and Follow us on :

Facebook

Instagram

Twitter
Pinterest
Linkedin
Bloglovin

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां