Header Ads Widget

ताज़ा

6/recent/ticker-posts

शनि जयंती खास : तिल या सरसों का तेल चढ़ाने से प्रसन्न होते हैं शनि देव

 

शनि जयंती खास


आज ज्येष्ठ मास की अमावस्या को शनि जयंती मनाई जाएगी. इसे शनि अमावस्या भी कहते हैं। पुराणों के अनुसार इसी दिन शनि देव का जन्म हुआ था। शनि देव भगवान सूर्य और छाया (संवर्ण) के पुत्र हैं। शनि शुरू से ही विपरीत स्वभाव के थे। ये क्रूर ग्रह माने जाते हैं। उसकी आँखों में क्रूरता उसकी पत्नी के श्राप के कारण है। इसकी कथा ब्रह्म पुराण में वर्णित है।


शनि सूर्य देव और छाया के पुत्र हैं

शनि जन्म के संदर्भ में एक पौराणिक कथा बहुत मान्य है, जिसके अनुसार शनि सूर्य देव और उनकी पत्नी छाया के पुत्र हैं। सूर्य देव का विवाह प्रजापति दक्ष की पुत्री संग्या से हुआ था। 

कुछ समय बाद उनके तीन बच्चे हुए मनु, यम और यमुना। इस प्रकार संज्ञा ने कुछ समय तक सूर्य के साथ संबंध रखने का प्रयास किया, 

लेकिन संज्ञा सूर्य के तेज को अधिक समय तक सहन नहीं कर सकी। इस कारण संग्या ने अपने पति सूर्य की सेवा में अपनी परछाई छोड़ दी और वहां से चली गई। कुछ समय बाद छाया के गर्भ से शनिदेव का जन्म हुआ।


शनि जयंती पर ऐसे करें पूजा

शनि जयंती पर विधि के अनुसार शनि देव की पूजा और व्रत किया जाता है। शनि जयंती के दिन किए गए दान और पूजा से कष्ट दूर होते हैं। इसलिए इस दिन प्रात:काल स्नान कर नवग्रहों का अभिनंदन करें। 

फिर शनि देव की लोहे की मूर्ति स्थापित करें और उसका सरसों या तिल के तेल से अभिषेक करें। इसके बाद शनि मंत्र का जाप करते हुए शनि देव की पूजा करें। शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए हनुमान जी की भी पूजा करनी चाहिए।

तिल, उड़द, काली मिर्च, मूंगफली का तेल, लौंग, तेजपत्ता और काला नमक का प्रयोग शनि की कृपा और शांति के लिए पूजा में किया जा सकता है। 

ओम प्राइम प्रांन्स: शनिश्चराय नमः: मंत्र जाप करते हुए शनि देव से जुड़ी चीजों का दान करें। शनि के लिए दान की गई चीजों में काले कपड़े, जामुन, काली उड़द, काले जूते, तिल, लोहा, तेल आदि शनि के लिए दान किए जा सकते हैं। 

इस तरह पूजा के बाद दिन भर कुछ न खाएं और मंत्र का जाप करते रहें।


शनि जयंती का महत्व

पुराणों के अनुसार शनि देव जन्म से ही काले रंग, लंबे शरीर, बड़ी आंखों और बड़े बालों वाले थे। शनि जयंती पर विशेष शनि मंदिरों की पूजा की जाती है और शनि से संबंधित चीजों का दान किया जाता है। 

जिससे कुंडली में शनि की अशुभ स्थिति का प्रभाव कम होता है। इस दिन शनि देव की पूजा करने या उनसे संबंधित चीजों का दान करने से शनि के दोष दूर होते हैं। 

जो लोग इस दिन भक्ति के साथ शनि देव की पूजा करते हैं, वे पाप की ओर जाने से बच जाते हैं। जिससे उन्हें शनि की दशा के कारण कष्ट नहीं उठाना पड़ता है। 

शनिदेव की पूजा करने से अनजाने में किए गए पापों से भी मुक्ति मिलती है।



Like and Follow us on :

Facebook

Instagram

Twitter
Pinterest
Linkedin
Bloglovin

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ