Header Ads Widget

ताजा खबरें

5/recent/ticker-posts

पाक में TLP का सरकार से टकराव: 4 पुलिसकर्मियों की तहरीक-ए-लब्बैक से झड़प में मौत, 250 घायल; कंटेनर्स से सड़कें ब्लॉक, गड्ढे खोदे गए

पाक में TLP का सरकार से टकराव


पाकिस्तान में सरकार और प्रतिबंधित संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (TLP) के बीच तनातनी बढ़ गई है। TLP ने फ्रांस के राजदूत को देश से हटाने सहित 4 मांगों को लेकर इस्लामाबाद मार्च शुरू किया है। इस हिंसक झड़प के दौरान 4 पुलिसकर्मियों की मौत हो गई है। 

करीब 250 लोग घायल हुए हैं। इमरान सरकार ने 3 शर्तें मान ली हैं, लेकिन वह फ्रांस के राजदूत को देश से निकालने को तैयार नहीं है, जबकि टीएलपी की यही मुख्य मांग है।

मार्च को रोकने के लिए सरकार ने सड़कों पर कंटेनर लगा दिए हैं। कई जगहों पर सड़क के किनारे बड़े-बड़े गड्ढे खोद दिए गए हैं ताकि वहां से टीएलपी वाहन न निकल सकें। हालांकि मार्च में शामिल ज्यादातर लोग पैदल ही हैं।

इस बीच, सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने कहा है कि लब्बैक के साथ अब अन्य आतंकवादी संगठनों की तरह ही माना जाएगा और आतंकवादी संगठनों की तरह ही व्यवहार किया जाएगा।


एक मांग पर संघर्ष जारी

TLP और इमरान सरकार के बीच 3 बातों पर समझौता हो चुका है, लेकिन एक मांग पर टकराव जारी है। TLP का कहना है कि पैगंबर की बेअदबी के मामले में फ्रांस के राजदूत को देश से बाहर कर देना चाहिए। सरकार का कहना है कि अगर ऐसा किया गया तो देश को इसके गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। 

यूरोपीय देश पाकिस्तान के खिलाफ हो जाएंगे। जीएसपी प्लस का दर्जा खत्म हो जाएगा और पाकिस्तानियों के लिए यूरोप जाना मुश्किल हो जाएगा। वहीं टीएलपी झुकने को तैयार नहीं है।

सरकार का कहना है कि वह 6 महीने से जेल में बंद TLP प्रमुख साद रिजवी को रिहा करने के लिए तैयार है। टीएलपी पर लगी रोक भी हट जाएगी और उसके लोगों को भी रिहा कर दिया जाएगा, लेकिन टीएलपी फ्रांस के राजदूत को हटाने की मांग पर अड़ी है।

एक मांग पर संघर्ष जारी


सरकार खतरे में

पाकिस्तान में TLP के लाखों समर्थक हैं। इस्लामाबाद मार्च में ही करीब 20 हजार शामिल हो रहे हैं। अगर सरकार उन्हें जबरदस्ती करने की कोशिश करती है, तो हिंसा भड़क सकती है। इससे पहले लाहौर में इसी तरह की झड़प में कई पुलिसकर्मी मारे गए थे। इसलिए सरकार राजनीतिक रूप से कोई जोखिम नहीं लेना चाहती है। रावलपिंडी और इस्लामाबाद के बीच की दूरी सिर्फ 28 किलोमीटर है। अगर टीएलपी के लोग इस्लामाबाद पहुंचते हैं तो सरकार के लिए सारी मुश्किलें खड़ी हो जाएंगी।

गृह मंत्री शेख राशिद कह रहे हैं कि मामले को शांतिपूर्वक सुलझा लिया जाएगा। हालांकि टीएलपी का आरोप है कि राशिद की बयानबाजी से मामला बिगड़ रहा है. राशिद के मुताबिक सरकार टीएलपी की एक मांग को छोड़कर सभी मांगें मानने को तैयार है.


TLP ने दे डाली धमकी

लब्बैक के कार्यकर्ता मुरीदके कैंप पहुंच गए हैं। इस्लामाबाद यहां से महज 14 किलोमीटर दूर है। कुछ का कहना है कि टीएलपी को सेना का गुप्त समर्थन है और वह इमरान को कुर्सी से हटाना चाहती है। ISI प्रमुख की नियुक्ति को लेकर इमरान और सेना के बीच गंभीर मतभेद पैदा हो गए हैं.

TLP ने साफ कर दिया है कि अगर सरकार पुलिस या अन्य सुरक्षा बलों के जरिए इसे रोकने की कोशिश करती है तो बड़े पैमाने पर हिंसा हो सकती है और इसके लिए सरकार जिम्मेदार होगी।


आगे क्या होगा ?

अगर TLP के लोग इस्लामाबाद पहुंच जाते हैं तो यहां की कानून-व्यवस्था, उसकी जगह दूसरी चीजें भी ठप हो सकती हैं, क्योंकि चंद घंटों में यहां लाखों लोग पहुंच जाते. 6 महीने पहले लाहौर में भी ऐसा ही मामला सामने आया है। कुल मिलाकर पाकिस्तान में बुधवार रात से गुरुवार तक हालात बेहद खतरनाक नजर आ रहे हैं.

इमरान इस मुद्दे पर कैबिनेट की बैठक कर चुके हैं, लेकिन अभी तक यह साफ नहीं है कि फ्रांस के राजदूत को देश से हटाया जाएगा या नहीं, इसके बिना टीएलपी झुकने को तैयार नहीं है।


TLP ने दे डाली धमकी


TLP को 2017 में बनाया गया था

TLP की स्थापना खादिम हुसैन रिजवी ने 2017 में की थी। वह पंजाब के धार्मिक विभाग के कर्मचारी थे और लाहौर की एक मस्जिद के मौलवी थे, लेकिन 2011 में जब पंजाब पुलिस के गार्ड मुमताज कादरी ने पंजाब के गवर्नर सलमान तासीर की हत्या की तो उन्होंने कादरी का खुलकर समर्थन किया। जिसके बाद उन्हें नौकरी से निकाल दिया गया था।

जब 2016 में कादरी को दोषी ठहराया गया था, तब TLP ने ईशनिंदा और पैगंबर के 'सम्मान' के मुद्दों पर देशव्यापी विरोध प्रदर्शन शुरू किया था। खादिम ने फ्रांस को परमाणु बम से उड़ाने की वकालत की थी। खादिम रिजवी का पिछले साल अक्टूबर में निधन हो गया था। 

खादिम रिजवी के अनुयायी पाकिस्तान में इस कदर थे कि कहा जाता है कि लाहौर में उनके अंतिम संस्कार के लिए लाखों की संख्या में लोग जमा हुए थे। खादिम रिजवी की मृत्यु के बाद उनके बेटे साद रिजवी ने टीएलपी की कमान संभाली।


किस पेच में फंस गई सरकार?

TLP की मांग है कि फ्रांस में पैगंबर का अपमान किया गया था, इसलिए फ्रांस के राजदूत को तुरंत पाकिस्तान से निष्कासित कर दिया जाना चाहिए। इमरान सरकार ने संसद में इस पर बहस कराने का वादा किया था। बिल पेश होने से पहले ही 12 अप्रैल को टीएलपी प्रमुख को गिरफ्तार कर लिया गया था। 

टीएलपी एक धार्मिक और राजनीतिक दल है। पिछले चुनाव में उन्हें 24 लाख वोट मिले थे। इमरान सरकार फ्रांस के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर सकती, क्योंकि वह यूरोपीय संघ और अमेरिका को इसके खिलाफ कर देगी। इधर, राजनीतिक मजबूरियों के कारण टीएलपी पर प्रतिबंध लगा दिया गया था, लेकिन सरकार और सेना सख्त कदम उठाने से डरती है।


Pakistan Islamabad Violence | Imran Khan Government On Tehreek e labbaik March | Islamabad Violence | TLP | 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ